Path Ke Davedar (Hindi)

Author :Sarat Chandra Chattopadhyay

Category : Home

ISBN No :

Language :English

Formats: ePub



    (1 Review)

Apple

1. Download book via app from App store.
2. Install the application on your device.
3. Click on settings icon in the left corner to activate the device.
4. Now proceed to add account. 5. Select eBooks2go from the list of stores you see.
6. Enter the credentials you have already submitted to eBooks2go.
7. Click on sign in.
8. After you sign in, you will see a bookshelf in left corner. The book shelf contains all the books you have purchased from eBooks2go.
9. Click on any book and start reading.


Android

1. Download book via app from Google Play .
2. Install the application on your device.
3. Click on settings icon in the left corner to activate the device.
4. Now proceed to add account. 5. Select eBooks2go from the list of stores you see.
6. Enter the credentials you have already submitted to eBooks2go.
7. Click on sign in.
8. After you sign in, you will see a bookshelf in left corner. The book shelf contains all the books you have purchased from eBooks2go.
9. Click on any book and start reading.

Read this on

अपूर्व के मित्र मजाक करते, ''तुमने एम. एस-सी. पास कर लिया, लेकिन तुम्हारे सिर पर इतनी लम्बी चोटी है। क्या चोटी के द्वारा दिमाग में बिजली की तरंगें आती जाती रहती हैं?''

अपूर्व उत्तर देता, ''एम. एस-सी. की किताबों में चोटी के विरुध्द तो कुछ लिखा नहीं मिलता। फिर बिजली की तरंगों के संचार के इतिहास का तो अभी आरम्भ ही नहीं हुआ है। विश्वास न हो तो एम. एस-सी. पढ़ने वालों से पूछकर देख लो।''

मित्र कहते, ''तुम्हारे साथ तर्क करना बेकार है।''

अपूर्व हंसकर कहता, ''यह बात सच है, फिर भी तुम्हें अकल नहीं आती।''

अपूर्व सिर पर चोटी रखे, कॉलेज में छात्रवृत्ति और मेडल प्राप्त करके परीक्षाएं भी पास करता रहा और घर में एकादशी आदि व्रत और संध्या-पूजा आदि नित्य-कर्म भी करता रहा। खेल के मैदानों में फुटबाल, किक्रेट, हॉकी आदि खेलने में उसको जितना उत्साह था प्रात:काल मां के साथ गंगा स्नान करने में भी उससे कुछ कम नहीं था। उसकी संध्या-पूजा देखकर भौजाइयां भी मजाक करतीं, बबुआ जी पढ़ाई-लिखाई तो समाप्त हुई, अब चिमटा, कमंडल लेकर संन्यासी हो जाओ। तुम तो विधवा ब्राह्मणी से भी आगे बढ़े जा रहे हो।''

अपूर्व हंसकर कहता, ''आगे बढ़ जाना आसान नहीं है भाभी! माता जी के पास कोई बेटी नहीं है। उनकी उम्र भी काफी हो चुकी है। अगर बीमार पड़ जाएंगी तो पवित्र भोजन बनाकर तो खिला सकूंगा। रही चिमटा, कमंडल की बात, सो वह तो कहीं गया नहीं?''

अपूर्व मां के पास जाकर कहता, ''मां! यह तुम्हारा अन्याय है। भाई जो चाहें करें लेकिन भाभियां तो मुर्गा नहीं खातीं। क्या तुम हमेशा अपने हाथ से ही भोजन बनाकर खाओगी?''

मां कहती, ''एक जून एक मुट्ठी चावल उबाल लेने में मुझे कोई तकलीफ नहीं होती। और जब हाथ-पांव काम नहीं करेंगे तब तक मेरी बहू घर में आ जाएगी।''

अपूर्व कहता, ''तो फिर एक ब्राह्मण पंडित के घर से बहू, मंगवा क्यों नहीं देतीं? उसे खिलाने की सामर्थ्य मुझमें नहीं है-लेकिन तुम्हारा कष्ट देखकर सोचता हूं कि चलो भाइयों के सिर पर भार बनकर रह लूंगा।''

मां कहती, ''ऐसी बात मत कह रे अपूर्व, एक बहू क्या, तू चाहे तो घर भर को बिठाकर खिला सकता है।''

''कहती क्या हो मां? तुम सोचती हो कि भारतवर्ष में तुम्हारे पुत्र जैसा और कोई है ही नहीं?''

Sarat Chandra Chattopadhyay

Average Review: 1 Review

1 Review

Share Your Opinion

  • profile-icon-sign-in

    anonymous

    This novel is Sarat Chandra’s best creation. Its depicts the importance of feelings of patriotism and service to the country. This novel was first published in Bengali and it created a great sensation and British government banned this book. The great Rabindranath Tagore also praised this creation of Sarat Chandra. Readers will enjoy reading it.

S.No

Product

Quntity

Price

1

Cart Image

1

7.00

2

Cart Image

1

7.00

3

Cart Image

1

7.00

0 Your cart is empty

Recently viewed products