Godaan (Hindi)

Author :Premchand

Category : Home

ISBN No :

Language :English

Formats: ePub



    (1 Review)

Apple

1. Download book via app from App store.
2. Install the application on your device.
3. Click on settings icon in the left corner to activate the device.
4. Now proceed to add account. 5. Select eBooks2go from the list of stores you see.
6. Enter the credentials you have already submitted to eBooks2go.
7. Click on sign in.
8. After you sign in, you will see a bookshelf in left corner. The book shelf contains all the books you have purchased from eBooks2go.
9. Click on any book and start reading.


Android

1. Download book via app from Google Play .
2. Install the application on your device.
3. Click on settings icon in the left corner to activate the device.
4. Now proceed to add account. 5. Select eBooks2go from the list of stores you see.
6. Enter the credentials you have already submitted to eBooks2go.
7. Click on sign in.
8. After you sign in, you will see a bookshelf in left corner. The book shelf contains all the books you have purchased from eBooks2go.
9. Click on any book and start reading.

Read this on

होरीराम ने दोनों बैलों को सानी-पानी दे कर अपनी स्त्री धनिया से कहा - गोबर को ऊख गोड़ने भेज देना। मैं न जाने कब लौटूँ। जरा मेरी लाठी दे दे। धनिया के दोनों हाथ गोबर से भरे थे। उपले पाथ कर आई थी। बोली - अरे, कुछ रस-पानी तो कर लो। ऐसी जल्दी क्या है? होरी ने अपने झुर्रियों से भरे हुए माथे को सिकोड़ कर कहा - तुझे रस-पानी की पड़ी है, मुझे यह चिंता है कि अबेर हो गई तो मालिक से भेंट न होगी। असनान-पूजा करने लगेंगे, तो घंटों बैठे बीत जायगा। 'इसी से तो कहती हूँ, कुछ जलपान कर लो और आज न जाओगे तो कौन हरज होगा! अभी तो परसों गए थे।'

'तू जो बात नहीं समझती, उसमें टाँग क्यों अड़ाती है भाई! मेरी लाठी दे दे और अपना काम देख। यह इसी मिलते-जुलते रहने का परसाद है कि अब तक जान बची हुई है, नहीं कहीं पता न लगता कि किधर गए। गाँव में इतने आदमी तो हैं, किस पर बेदखली नहीं आई, किस पर कुड़की नहीं आई। जब दूसरे के पाँवों-तले अपनी गर्दन दबी हुई है, तो उन पाँवों को सहलाने में ही कुसल है।'

धनिया इतनी व्यवहार-कुशल न थी। उसका विचार था कि हमने जमींदार के खेत जोते हैं, तो वह अपना लगान ही तो लेगा। उसकी खुशामद क्यों करें, उसके तलवे क्यों सहलाएँ। यद्यपि अपने विवाहित जीवन के इन बीस बरसों में उसे अच्छी तरह अनुभव हो गया था कि चाहे कितनी ही कतर-ब्योंत करो, कितना ही पेट-तन काटो, चाहे एक-एक कौड़ी को दाँत से पकड़ो; मगर लगान का बेबाक होना मुश्किल है। फिर भी वह हार न मानती थी, और इस विषय पर स्त्री-पुरुष में आए दिन संग्राम छिड़ा रहता था। उसकी छ: संतानों में अब केवल तीन जिंदा हैं, एक लड़का गोबर कोई सोलह साल का, और दो लड़कियाँ सोना और रूपा, बारह और आठ साल की। तीन लड़के बचपन ही में मर गए। उसका मन आज भी कहता था, अगर उनकी दवा-दवाई होती तो वे बच जाते; पर वह एक धेले की दवा भी न मँगवा सकी थी। उसकी ही उम्र अभी क्या थी। छत्तीसवाँ ही साल तो था; पर सारे बाल पक गए थे, चेहरे पर झुर्रियाँ पड़ गई थीं। सारी देह ढल गई थी, वह सुंदर गेहुँआँ रंग सँवला गया था, और आँखों से भी कम सूझने लगा था। पेट की चिंता ही के कारण तो। कभी तो जीवन का सुख न मिला। इस चिरस्थायी जीर्णावस्था ने उसके आत्मसम्मान को उदासीनता का रूप दे दिया था। जिस गृहस्थी में पेट की रोटियाँ भी न मिलें, उसके लिए इतनी खुशामद क्यों?

Premchand

Average Review: 1 Review

1 Review

Share Your Opinion

  • profile-icon-sign-in

    anonymous

    Greatest novel in hindi novels which I have read till date. Go for it if you can read hindi novels. Read it with normal reading speed and believe me you will not regret purchasing it and spending your precious time and money.

S.No

Product

Quntity

Price

1

Cart Image

1

7.00

2

Cart Image

1

7.00

3

Cart Image

1

7.00

0 Your cart is empty

Recently viewed products